mr discount code mr kortings code FACE Classes: Education

Education


परीक्षा देना भी एक कला है। 
Examination is also an art.

किसी व्यक्ति को हमेशा याद रखना चाहिए कि परीक्षा देना भी एक कला है और जो व्यक्ति इस कला को सीख जाता है उसकी सफलता सुनिश्चित है। परीक्षाओं का पाठ्यक्रम अत्यधिक विस्तृत होता है। परीक्षाओं में वही व्यक्ति सफल हो सकता है जिसे साफ से लिखने की आदत हो तथा प्रश्नों को सही ढंग से समझना आता हो । जब भी कोई परीक्षार्थी परीक्षा देने जाता है, तो उसके सामने सबसे बड़ी समस्या लिखने की होती है।

A person should always remember that taking a test is also an art and the person who learns this art is sure to succeed. The curriculum of examinations is highly elaborate. The same person can be successful in examinations, which is a habit of writing clearly and understanding the questions correctly. Whenever a candidate goes to take the exam, then he has to write the biggest problem.

परीक्षा के बाद परीक्षक के समक्ष परीक्षार्थी स्वय न उपस्थित होकर उसके द्वारा लिखी गई कॉपी ही उसका प्रतिनिधित्व करती है। परीक्षार्थी द्वारा लिखी गई कॉपी ही उसके व्यक्तित्व का प्रदर्शन करती है । इस परिस्थिति में यह जरूरी हो जाता है कि परीक्षार्थी का व्यक्तित्व प्रभावशाली रूप से परीक्षक के सामने (समकक्ष) हो इसके लिए परीक्षार्थी को कुछ खास बातों पर ध्यान देना आवश्यक हो जाता है ।
After examination, the examiner himself does not appear before the tester and the copy written by him represents him. The copy written by the examinee itself demonstrates his personality.In this situation, it becomes necessary that the examinee's personality is effectively in front of the examiner (equivalents), it is necessary for the examinee to pay attention to certain things.

प्रभावशाली व्यक्तिव के प्रदर्शन के लिए सर्वप्रथम परीक्षार्थी को अपनी लेखनी पर ध्यान देना चाहिए । हमारी लेखनी की रफ्तार तो तेज होनी ही चाहिए लेकिन इसके साथ – साथ साफ एवं सुंदर भी होनी चाहिए । इसके लिए परीक्षार्थी को प्रतिदिन कम – से – कम एक घंटा प्रैक्टिस करनी चाहिए। परीक्षाओं में यह निहायत जरूरी है कि निर्धारित समय सीमा के अंदर सभी प्रश्नों का उत्तर दिया जा सके । परीक्षार्थी को लिखते रहने की प्रैक्टिस तब तक करते रहनी चाहिए जब तक उसमें पूर्णत: आत्मविसवास पैदा न हो जाए ।

For the performance of an influential person, the examinee should first focus on his writing. The pace of our writing should be sharp, but it should be clean and beautiful along with it. For this, the examinee should practice at least one hour daily. It is very important in the examinations that all questions can be answered within the prescribed time limit. The practitioner should continue to practice writing for as long as it is not fully self-reliant in it.

यदि किसी को लिखावट खराब है तो उसे इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि कलम घसीट कर न चलाएं । पहले धीरे – धीरे लिखने की कोशिश करें तब धीरे – धीरे रफ्तार बढ़ाते जाए । कलम उठाकर लिखना सीखेँ । हमारी कलम ऐसी होनी चाहिए जो शीघ्र गति से चलता हो तथा बीच में रूकावट न पैदा करता हो । लिखावट के दौरान पैराग्राफ बदलने का ध्यान रखें तथा दो शब्दों के बीच एक उचित दूरी बनाए रखें । शब्दों को न अधिक छोटा लिखे और न बड़ा । यदि कोई शब्द या पंक्ति गलत हो जाए तो उस पर सिर्फ एक लकीर खींच दे। व्याकरण संबंधी शुद्धता का ध्यान रखें । अल्प – विराम , पूर्ण विराम एवं विराम चिन्हों का सही जगह पर इस्तेमाल करें । निश्चय ही हमारी लेखनी इससे सुंदर नजर आएगी एवं परीक्षक के सामने हमारे व्यक्तित्व का प्रदर्शन प्रभावशाली रूप में होगा ।

If someone has a bad handwriting, he should always keep in mind that the pen does not drag and move. First try to write gradually, then gradually increase the speed. Raise the pen and learn how to write. Our pen should be such that it runs fast and does not interfere in the middle. Remember to change the paragraph during handwriting and maintain a fair distance between the two words. Do not write words too short and neither big. If a word or a line goes wrong, just pull a line on it. Keep grammatical accuracy in mind. Use short-punctuation, complete punctuation and punctuation in the right place. Of course, our writings will look beautiful with this, and our personality will be influential in front of the tester. 

किसी भी परीक्षा या साक्षात्कार के पूर्व यह आवश्यक हो जाता है कि आप समय से कम – से – कम 15 मिनट पहले पहुँचकर अपना स्थान ग्रहण कर लें । इस बात की जांच भी अवश्य कर लें कि आपके पास जरूरी समान जैसे पेन , पेंसिल , स्केच आदि अवश्य हैं। प्रश्न पत्र मिलने के बाद तुरंत लिखना प्रारम्भ नहीं करे बल्कि पहले पूरे इत्मीनान से प्रश्न – पत्र को पढ़ लेनी चाहिए। दूसरी बार पढ़ने से प्रश्नों का सही मर्म समझ में आ जाता है । कई बार ऐसा भी होता है कि प्रश्न का मर्म वही होता है लेकिन शब्दों के हेर – फेर से प्रश्न को यहा वहा घुमा दिया जाता है। ऐसे में प्रश्न – पत्र को ध्यानपूर्वक पूरी गहराई से पढ़ें । यदि इसके बाद भी समझ में नहीं आए तो उस पर समय व्यर्थ न करें तथा दूसरे प्रश्न का उत्तर दें। कई बार ऐसा होता है कि दो या तीन दूसरे प्रश्न के उत्तर देने के बाद उस प्रश्न का मर्म समझ में आ जाता हैं तब हमें उस प्रश्न का उत्तर देना चाहिए । प्रश्न पत्र मिलते ही प्रत्येक प्रश्न को हल करने का समय निर्धारित कर लें। यदि कभी समय की कमी हो जाए तो कभी भी घबराना नहीं चाहिए । ऐसा करने से हमारी प्रारम्भिक परिश्रम बेकार चली जाती है । ऐसे मे आप उस प्रश्न का उत्तर संक्षिप्त में प्रभावशाली रूप से देने का प्रयास करें।

Before any exam or interview, it is necessary that you reach your place at least 15 minutes before the time. Be sure to check that you have the same essential pen, pencil, sketch, etc. After getting the question papers, do not start writing immediately, but should first read the question paper full leisurely. Reading the second time makes sense of the right understanding of the questions. Many times it happens that the question is the same as the word, but with the words, the question is turned right there. In such a way, read the question paper carefully in full depth. If not understood after this then do not waste time on it and answer the second question. Many times it happens that after answering two or three other questions, we understand the question of that question, then we should answer that question. As soon as you get the question papers, decide the time to solve each question. If there is a shortage of time then never get scared. By doing this our initial hard work goes waste. In such a way, you try to answer that question effectively in brief. 

हमारे उत्तर देने का ढंग अच्छा होना चाहिए।  इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि परीक्षक हमसे बहुत अधिक ज्यादा जानकार है । प्रश्नोत्तर करते समय कभी भी अनावश्यक बातें न  लिखें जैसे मैंने याद तो किया था परंतु समयाभाव के चलते उत्तर नहीं दे पाया, कृपया मार्क्स बढ़ा दे या मेरी कलम रूक गई थी जिसके कारण मैं प्रश्नोत्तर नहीं कर पाया आदि इन सब वाक्यों का कोई फायदा नहीं होता और परीक्षक इन बातों पर कोई ध्यान भी नहीं देते ।

Our answer should be good. Always keep in mind that the tester is much more 
knowledgeable than us. Do not ever write unnecessary things while doing a Q & A as 
I did but I could not answer because of the problem, please increase the marks or 
my pen was stopped due to which I could not quiz, etc. All these sentences are of
no avail. And the testers do not pay any attention to these things.

कुछ छात्र जितने आत्मविश्वासी होते है जो प्रश्न पत्र देखते ही सोचने लगते है कि वे पूरे प्रश्न हल कर लेंगे । लेकिन ऐसा होता नहीं है, ऐसे छात्रों के साथ अक्सर देखा गया है कि प्रश्नकर्त्ता प्रश्न कुछ पूछ रहा है और वे उत्तर कुछ और ही लिख रहे है । सिर्फ उन्हीं प्रश्नों का उत्तर लिखें जिसका उत्तर आपकों अच्छी तरह आता हो ।

As much as a few students are confident, they start thinking about the question papers that they will solve the whole question. But this does not happen, it has often been seen with such students that the questionnaire is asking questions and they are writing the answers something else. Just answer the questions you have answered, the answer is well. 

ऐसा भी नहीं होना चाहिए कि उत्तरों की क्रमबद्धता टूटती प्रतीत हो। प्रश्नों को सिलसिलेवार लिखें एवं प्रश्नों का उत्तर देते समय उपशीर्षकों का अधिक से अधिक प्रयोग करें । हो सके तो महत्वपूर्ण अंशों को रेखांकित करें । शीर्षक, उपशीर्षक एवं प्रश्नोत्तर का सारांश लिखकर , उत्तर पुस्तिका का सारांश लिखकर उत्तर पुस्तिका को बंद करें । सभी प्रश्नों के उत्तर देने के बाद अपनी उत्तर पुस्तिका पर एक निगाह अवश्य डालें जिससे कोई छोटी बड़ी गलती हुई हो तो उसका सुधार हो जाए। 
It should not be that the sequences of the answers seem to be staggering. Write a series of questions and answer the questions and use the subtitles as much as possible. If possible, underline the important fragments. By typing a summary of the title, subtitle and quiz, write the summary of the answer sheet and close the answer sheet. After answering all the questions, please take a look at your answer sheet, thereby correcting it if there has been a small mistake.

खास बातें –

  • आपकी लेखनी तेज एवं साफ सुथरी होनी चाहए ।
  • प्रश्नों का मर्म अच्छी तरह समझ कर प्र्श्नोत्तर करें ।
  • प्रश्नोत्तर करते समय शीर्षक, उपशीर्षक एवं विराम चिन्हों पर भी ध्यान दें ।
  • व्याकरण संबंधी गलतियों को न होने दें ।
  • प्रश्नों का उत्तर देने में समय का अवश्य ध्यान रखें ।
  • परीक्षा केंद्र पर समय से पहले सभी आवश्यक सामान के साथ पहुंचे । 

Special things -

  • Your writing should be fast and clean.
  • Please understand the questions carefully and post them further.
  • Also note the title, subtitles and punctuation while quizzing.
  • Do not allow grammatical mistakes.
  • Keep in mind the time to answer the questions.
  • Access to the examination center with all the necessary goods before time.
By :- Madan Jeet Kumar
<div class="fb-like" data-href="https://facemadanjeet.blogspot.com/" data-layout="button_count" data-action="like" data-size="large" data-show-faces="true" data-share="true"></div>

1 comment: