mr discount code mr kortings code FACE Classes: High ambition is harmful

Sunday, April 7, 2019

High ambition is harmful

Motivational



नमस्कार दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं मैं पिछले कुछ महीनों से अपने ब्लॉग पर लगातार सकारात्मक मोटिवेशनल लेख लिखते आ रहा हूं।  मेरा मानना है की यदि कोई भी व्यक्ति लगातार अपने लक्ष्य के प्रति कदम बढ़ाते रहें तो कभी ना कभी,  किसी ना किसी दिन वह अपने लक्ष्य को अवश्य  पा लेगा परंतु अक्सर देखा जाता है जब भी आप अपने लक्ष्य को पाने के लिए प्रयास करते हैं तो अगल-  बगल से, अपने वातावरण से  नेगेटिव बातें  हमें  सुनने  को मिलती है, और आप  नेगेटिव हो जाते हैं।  हमारे मन में कई प्रकार के संकाये  बैठ जाती है कि क्या में अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाऊंगा।  सफलता के लिए महत्वाकांक्षा का होना बहुत जरूरी है, हम जब तक महत्वाकांक्षी नहीं होंगे हमें सफलता नहीं मिल सकती।  परंतु अति महत्वाकांक्षा  पालना भी बहुत खतरनाक है।  तो मैंने आप लोगों के लिए एक नया मोटिवेशनल आर्टिकल अतिमहत्वाकांक्षा के लिए तैयार किया है,  जिसे आप पढ़ कर जीवन में सफलता के मार्ग पर अग्रसर होंगे।

अति महत्वाकांक्षा है हानिकारक

tips-to-be-successful-in-life, Motivation
tips-to-be-successful-in-life, Motivation



 यह सच है कि सपने उन्हीं के साकार होते हैं जो उन्हें देखते हैं,  और लगन एवं ईमानदारी से जो उनके लिए प्रयास करते हैं।  महत्वाकांक्षी होना कोई बुरी बात नहीं है परंतु महत्वाकांक्षा सकारात्मक एवं व्यावहारिक होना चाहिए। युवा महत्वाकांक्षा तो बड़ी - बड़ी पा लेते हैं परंतु वे उनके प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण नहीं अपना पाते हैं।  परिणाम यह होता है कि युवा अपने उद्देश्य से भटक जाते हैं और अपने  लक्ष्य की प्राप्ति नहीं कर पाते।

 योग्यता के अनुरूप ही महत्वाकांक्षा पाले :-   अधिक विश्वास होना अथवा अति महत्वाकांक्षा पालना दोनों एक ही बातें हैं  और इनका प्रभाव एक समान होता है।  छात्रों को चाहिए कि वह अपनी योग्यता के अनुरूप ही पांव पसारे, सीधे या सरल शब्दों में कहें तो यह कि उन्हें अपने मौजूदा साधनों और सुविधाओं के अनुरूप प्रयास करने चाहिए।  कई बार ऐसा होता है कि बहुत से छात्र उच्च पदों अथवा उन क्षेत्रों में जाने का प्रयास करते हैं  जहां टिक पाना उनके लिए बहुत कठिन होता है क्योंकि इन पदों या क्षेत्रों में राष्ट्रीय स्तर के  प्रतियोगी आते हैं जिनके प्रयास और साधन अव्वल दर्जे के होते हैं।  ऐसे छात्रों के बीच उच्च महत्वाकांक्षा वाले छात्र केवल प्रयास ही करते रह जाते हैं  और उनका कीमती समय उच्चे पदों को पाने की लालसा आधे- अधूरे प्रयासों में ही गुजर जाता है।  मात्र महत्वाकांक्षा से ही नहीं बल्कि प्रयास करने से ही कुछ पाया जाता है।  शिक्षा एवं रोजगार के क्षेत्र में वह  पहले कुछ पा लें  और  उच्च पदों की ओर देखें तो राह आसान होगी।

 जल्दीबाजी न दिखाएं:-  जीवन में जल्दीबाजी या उतावलेपन  का कोई महत्व नहीं है।  छात्रों को तो अवश्य ही,  कोई भी कदम बहुत सोच-समझकर बढ़ाना चाहिए।  अतः छात्रों को चाहिए कि वह अपने लिए निर्धारित दिशा में प्रभावपूर्ण और स्थाई तरीके से आगे बढ़े।  छात्र आरंभ से ही जैसी आदत डालेंगे,  जीवन भर वह उसी राह का पालन कर सकेंगे,  यह स्वाभाविक है।


 सही निर्णय की आवश्यकता:-  वैसे तो ज्यादातर विद्यार्थियों और युवाओं को उनके माता- पिता,  बड़े भाई - बहन  अभिभावक प्रारंभ में, हाई स्कूल,  इंटरमीडिएट की परीक्षा के दौरान ही किसी विशेष दिशा में ले जाने का प्रयास करते हैं परंतु हमारे देश में अनगिनत छात्र ऐसे भी हैं  जिनका कोई  मार्गदर्शक नहीं होता है अर्थात जिनका उचित मार्गदर्शन नहीं हो पाता।  ऐसे छात्रों को स्वयं ही अपने लिए लक्ष्य का चुनाव करना होता है और बगैर किसी के दिशा निर्देश के स्वयं ही सफलता के मार्ग पर आगे  बढ़ना पड़ता है।  हाई स्कूल या इंटरमीडिएट के छात्रों में इतनी  परिपक्वता नहीं होती  कि वह अपने लिए सही दिशा का निर्धारण कर सके।  अपनी महत्वाकांक्षा और उपलब्ध संसाधनों के तर्ज पर एक लक्ष्य को निर्धारित कर उसकी ओर बढ़ सकें।  परिणाम यह होता है कि बहुत से छात्र कई वर्ष एक दिशा में गुजारने के बाद पुन:  नई दिशा की ओर चल पड़ते हैं।  उनके लिए पहले के निर्णय पर किया गया व्यय और परिश्रम  तो  बेकार जाता ही है  साथ ही  बेशकीमती समय भी बेकार जाता है।

tips-to-be-successful-in-life, Motivation
tips-to-be-successful-in-life, Motivation

 लक्ष्य के प्रति योजनाबद्ध  रहें :-  अक्सर छात्र-छात्राएं योजनाएं तो बड़ी-बड़ी बनाते हैं,   परंतु उन पर अमल के समय  ढीले हो जाते हैं,  अर्थात पहले दिन के  उनके मन में  जो उत्साह होता है बाद में धीरे-धीरे वह कम होता चला जाता है।  छात्रों के लिए ऐसा करना असफलता की निशानी है।  बेहतर यही होगा कि योजनाओं को पूरी तरह सोच समझकर बनाया जाए।  समय एवं साधनों की उपलब्धता के प्रति सकारात्मक रवैया अपनाकर आगे बढ़ना चाहिए तभी योजनाएं फलीभूत होती है।

 कार्य में व्यावहारिकता दिखाएं:-   सफलता और अध्ययन के लिए छात्रों के पास योजनाओं की कोई कमी नहीं होती।  वास्तव में बड़ी से बड़ी परीक्षा के लिए विषयों का  गहन  अथवा संपूर्ण अध्ययन  किया जा सकता है  परंतु इसके लिए समय  को घटकों में  विभाजित करके प्रयास करने की आवश्यकता है,  अर्थात प्रतिदिन कुछ घंटे निरंतर।  हकीकत में या व्यवहारिकता का एकमात्र सफल दृष्टिकोण है।  किसी भी प्रकार की छोटी अथवा बड़ी सफलता के लिए व्यावहारिक होना बेहद लाज़मी है और इसके अभाव में सफलता प्राप्त करना कठिन क्या असंभव ही है।
आत्मविश्वास से आगे बढ़े:-   सर्वप्रथम छात्रों को किसी भी प्रतियोगिता में जाने से  अपनी वास्तविक स्थिति का अपने सामने  खुलासा कर लेना चाहिए।  अति महत्वाकांक्षाओं, भविष्यमयी  योजनाओं  और मन - मस्तिष्क  के बीच कोई भेद नहीं होना चाहिए।  उनकी मानसिक स्थिति कैसी है,  वह अपने लक्ष्य के प्रति कितने दृढ़  और आशावान है।  यह  बात एक खुली किताब की तरह उनके सामने होनी चाहिए।  स्वयं के   आत्मविश्वास  का परीक्षण   करने के लिए  छात्र अपने मित्रों,  सहपाठियों और सफल छात्रों से मेलजोल बढ़ाए।
    उनकी मानसिक स्थिति को जांचे,  परखें और उसका  विश्लेषण करके   स्वयं से तुलना करें सफल  प्रतियोगियों और उस में क्या भिन्नता है । छात्र जितनी सफलता से दूसरों की मन: स्थिति को समझेंगे और ईमानदारी से अपने- आप से  तुलना करेंगे:,  उतनी ही आसानी से वह अपने आत्मविश्वास की वास्तविक स्थिति को जान पाएंगे।
 सफलता के प्रति सही दृष्टिकोण अपनाएं:-    सफलता के प्रति आशावान रहे परंतु अंधविश्वासी  न बनें। किसी भी क्षेत्र की प्रतिस्पर्धा में जाने से पूर्व छात्रों को यह भली-भांति समझ लेना चाहिए कि आज की राष्ट्रीय स्तर की खुली प्रतिस्पर्धा में   उनका सामना देश के बुद्धिमान से बुद्धिमान छात्र से होगा।  यह आवश्यक है कि सफलता की राह में छात्रों को  वह दृष्टिकोण अपनानी चाहिए  जो प्रतिस्पर्धा की कसौटी पर खरा उतरे।  पुस्तकों की पढ़ाई के साथ-साथ उन्हें अपनी मनोस्थिति को भी  निखारना संवारना चाहिए  क्योंकि उनमें मानसिक स्तर पर किसी भी स्थिति का सामना करने की  क्षमता होनी चाहिए।

दोस्तों अगर आपको मेरा मोटिवेशनल लेख, आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप अपने दोस्तों को, अपने रिश्तेदारों को शेयर करें और यदि आपके पास भी कोई मोटिवेशनल विचार हो तो आप मेरे  ई-मेल पर भेज सकते हैं मैं आपका मोटिवेशनल लेख आपके नाम और तस्वीर के साथ अपने ब्लॉग पर प्रकाशित करूंगा।  यदि आपके पास कोई सुझाव हो, मेरे ब्लॉग से संबंधित तो इसे अवश्य दें  या आप कमेंट बॉक्स में लिखें मैं उसे अवश्य पूरा करने का प्रयास करूगा ।
आप इसे भी जरूर  पढ़ें :- 


2. हम और हमारा परिवार

3. अपनी गलती सुधारें । 

4. परीक्षा देना भी एक कला है।

5. जब मन न हो काम करने का। 

6. जरूरी है सम्पूर्ण समर्पण

7. अभी नहीं तो कभी नहीं

8. मेरा संदेश

9. लोकप्रिए बनने के टिप्स

10. परीक्षा को सामान्य ढंग से लें। 

11. भीड़ से अलग बनें |

12. समय प्रबंधन का क, ख, ग


Hello friends, as you all know I have been writing consistently positive motivational articles on my blog for the past few months. I believe that if a person continues to move towards his goal constantly, he or she will surely achieve his goal someday, but it is often seen whenever you try to achieve your goal. On the other hand, we hear negative things from our environment, and you become negative. There are many types of mentality in our mind that we will not be able to achieve our goal. It is very important to have ambition for success, we cannot get success unless we are ambitious. But too much ambition is too dangerous. So I have prepared for you a new motivational article for the great ambition, which you will be able to learn and move on to the path of success in life.

High ambition is harmful

tips-to-be-successful-in-life, Motivation
high-ambition-is-harmful

It is true that dreams are the realities of those who see them, and with passion and honesty who strive for them. Being ambitious is not a bad thing but ambition should be positive and practical. Young ambition takes big - big sails but they can not take positive attitude towards them. The result is that the youth wander away from their purpose and can not achieve their goals.

Have the same ambition as per the eligibility: - To have greater confidence or to have greater ambition are both the same things and their effects are the same. Students should strive to reach their own right according to their qualifications, either directly or in simple words, that they should make efforts according to their existing means and facilities. Many times it happens that many students try to go to higher positions or to those areas where ticking is very difficult for them because these positions or areas are national level competitors whose efforts and means are of the highest grade. Highly ambition students among these students continue to do the same, and the longing for higher positions in their precious time passes in half-incomplete efforts. Not only by ambition, but by trying, something is found. In the field of education and employment, he will get some first and look towards higher posts, the road will be easier.

Do not hurry: - Life does not have any significance in hurrying or hurrying. Students must definitely make any step by thinking very carefully. Therefore, students should move forward in a predominant and sustainable direction for themselves. Students will get used to it from the very beginning, they will be able to follow the same course throughout life, it is natural.

The need for the right decision: - Although most students and youths try to take their parents, older sibling parents initially, during the examination of high school, intermediate, but in our country there are countless Students are also those who do not have any guidance, which means that they can not be properly guided. Such students have to make a choice for themselves and without any direction of their own, they have to move on to the path of success. High school or intermediate students do not have enough maturity to determine the right direction for themselves. On the lines of your ambition and available resources, set a goal and move towards it. The result is that many students go towards new direction after spending several years in one direction. The expenditure and diligence done on them for the earlier decisions are useless and also costly time is also useless.



Be targeted for the goal: - Students often make plans very large, but they become loose during the execution, ie the enthusiasm in the mind of the first day will gradually decrease gradually. goes. This is a sign of failure for students. It would be better that plans should be fully thought out. Only then should the positive attitude towards the availability of time and resources should move ahead only if plans are fruitful.

Show practicality in work: - Students have no shortage of plans for success and study. In fact, for a big test, subjects can be studied intensive or thorough, but for this time, it is necessary to try to break the time into components, that is, continuous for a few hours per day continuously. The only successful approach to reality or practicality is. It is extremely insane to be practical for any kind of small or big success and it is difficult to achieve success in the absence of it.

high-ambition-is-harmful
high-ambition-is-harmful

Going forward with confidence: - First of all, students should be able to disclose their actual position in front of themselves in any competition. There should be no distinction between excessive ambitions, future plans and mind-brain. How is his mental state, how firm and optimistic he is towards his goal. It should be in front of them as an open book. To test their self-confidence, students can tie up with their friends, classmates and successful students. Examine, examine and analyze their mental state by comparing yourself with what is the difference between successful competitors and those. The success of the student will understand the minds of others and honestly compare themselves with you: the more easily they will know the real state of their confidence.

Take the right perspective towards success: - Be hopeful of success but do not become superstitious. Prior to going into competing in any field, students should understand that in today's national level open competition, they will face a wise intelligent student from the country. It is essential that in the path of success students should adopt the approach that meets the criteria of competition. As well as studying books, they should also refine their mood because they have the ability to face any situation at the mental level.

Friends, if you love my Motivational articles, then you share your friends, your relatives, and if you have any motive idea then you can send it to my e-mail. I will send your motorized article to your name and photograph. I will publish it on my blog. If you have any suggestions, please do this in relation to my blog or you write in the comment box, I will try to fulfill it.
You Can also read that follows

1. Maintain intimacy.
2. We and our family
3. Improve your mistake.
4. Examination is also an art.
5. When the mind does not work
6. Essential Dedication
7. Now or never
8. My message
9. Tips To  Be Popular
10. Take the test normally.
11. Be different from the crowd.
12. Time Management, A, B, C






4 comments:

  1. I'm so grateful you were my teacher,your positivity and encouragement brightened my day,you inspired me to begin this new chapter in my life.
    Thank you so much sir.🙏🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  2. I'm so grateful you were my teacher,your positivity and encouragement brightened my day,you inspired me to begin this new chapter in my life.
    Thank you so much sir.��������

    ReplyDelete