mr discount code mr kortings code FACE Classes: Tips To Be Popular

Sunday, March 10, 2019

Tips To Be Popular


Tips To Be Popular

tips to be popular
tips to be popular

The name of attraction is a wonderful current, which runs fast in any of the everyday and someone has 'voltage' big 'low' in some. If you want to increase your "kilowatt" capacity of attraction, then develop within yourself. These twenty qualities:


1. Appreciate, not flattering……….

Do not skimp in praise and love. These two are as few as they are, Perhaps your friends are startled in the beginning, but when they see that you are naive, they will be fascinated by this quality of generous praise. Pragmatism then says that if praise is not utterly false, even if it is not done by the depth of heart, it also leaves a great effect. The praise made with good intention is always admirable.


2. Become a good listener .......

Listening with attention to others is a great quality. Be patient, listen to things and do not interrupt. Try to develop this quality, everyone will see your hand stretching for friendship.


3. Screaming - It is not appropriate toyell .........

Do not shout on associates, do not shout. Do not do this at all, whether students are or working. Its effect is bad.


4. Decency in colloquial means............

Speak very sweet with subordinates or subordinates. Since you are a "boss" and can defame the subdued, do not do this with this feeling. This will keep people close to you instead of respecting you and will not hesitate to do bad to you if you get an opportunity. Experience getting sweet treats by talking sweet to people. Teasing your face will increase stress.


5. Do not keep a sense of revenge...........

Yes, if something sounds bad, do not remember it for a long time. Forget it Such a lump puts a lot of burden on the mind. Generating a sense of hatred, animosity or revenge is a waste of energy. Just think, you are boiling inside and your 'target' is going through Nainital or watching a movie on mobile.


6. Barking is not okay ............

When you say that you are bouncing, then you are not impressed by people, but you understand how vulnerable and insecure you are from within. It would be better that whenever you catch your own numbers, then stop there.


7. Encourage the front ...........

Instead of satirize, encourage the other person with words. Encourage him. Some sentences of the sample are presented - "I am very happy that you are already looking healthy." "Wow! Quit the cigarette Did a great job. "Hey you, today you have done amazing. Just got ready in the morning! "Etc.


8. Praise be done with heart ..........

When you see a good thing in any one, it is a good idea to express it, that is to say, praise. The praise of someone's pimples can bloom with your praise. Somebody - a compilation is remembered for years.


9. Not being hurt in front of everyone........

Do not make a single complaint during the entire conversation, or cry for no shortage. Believe this kind of conversation people will feel very comfortable and enjoyable. He has heard the saying The laughers give up all but laughing alone cries.


10. Do not prove yourself better..........

Do not make your best known. Such hypocrisy will keep people away from you. People will panic and not be friends with you.

tips to be popular
tips to be popular

11. It is better to avoid grief............

Laugh at the grief of grief People who speak lightly at times of grief also highly respect the people. Such a person is called a 'happy' or 'jolly' person.


12. Let live and live ..............

Do not despise the diamonds of others. Little thing is that if you are the fan of Amitabh, then you have no right to disdain his diamonds in front of the fan of Shah Rukh. The 'live and let live' formula is very popular.


13. Prove to be helpful for everyone.........

Celebrate the rumors and do a lot of work. The person with genuine help will sing your virtues and you will never get to work.


14. Meet everyone freely .........

To make friendship or to become popular, then it will have to open a little bit. Who will tell the condition of his heart and will dissolve with the person living in silence?


15. Be willing to apologize ...........

Do not hesitate to say 'I'm sorry' when you get the chance. Apologies is a very effective quality to win the heart.


16. Do not be dishonest ...........

Some people sit in a group to question their scholarship by asking strange questions, but when a person tries to answer it, then it is considered as 'boring' and it gets rid of it. People often ask questions, 'But when an academician starts answering, take out jamuhii and withdraw from there. Never do this. '


17. Be transparent .........

Wash the mood of the mind When there is a mindset, people usually keep sitting in their mind or poison for years. Such people are called 'selfless' behind the back. You do not do this. If there is a dispute or a fight then clearly discuss it and find solutions. Your savvy people will love it.


18. Be practical ..

The person who believes in you that he is weak, impractical or has seen some foolishness in some work, you do not call him weak, non-negotiable or foolish for God. Adopting such adjectives and talking about yourself But listening to such a thing by somebody seems too insulting. At such a time, he needs your sweet condolences, not so hard words. Whatever you say, you should not repeat it.


19.Lend a heartbeat ..........

Lenders also run in friendship whether it is a bowl sugar or ten to hundred rupees. Constrain yourself to a limit of lending, and lend it within your mind. It is not that the claim is to sprinkle life and where the friend demands five rupees to put hair on the eyebrow.


20.Join all the pleasures of sadness ..........

Give people what they demand. This final point is the center of this whole conversation. People want empathy and sensation and give them that and give them that. Put their habit of keeping them in their place, share their happiness and misery, and you will find yourself a whisper of your loved ones always with you.

लोकप्रिय बनने के नुस्खे ।

tips to be popular
tips to be popular


आकर्षण नाम है एक अद्भुत करंट का, जो किसी में रोज खुब तेज दौड़ता है और किसी में वोल्टेज बड़ा लो होता है। यदि आकर्षण की अपनी “किलोवाट” क्षमता बढ़ाना चाहते हैं तो अपने अंदर पैदा कीजिए । ये बीस गुण :

1॰    प्रशंसा करें, चापलूसी नहीं

तारीफ और प्यार में कंजूसी न करें। ये दोनों तो जितना मिले, उतना थोड़ा है। शायद शुरू में आपके मित्रों को अटपटा लगे, लेकिन जब वह देख लेंगे कि आप निष्कपट है, तो वे उदारतापूर्वक प्रशंसा करने के आपके इस गुण पर मोहित हो जाएंगे। व्यावहारिकता तो यह कहती है कि यदि प्रशंसा एकदम झुठी नहीं है, चाहे वह दिल की गहराई से न भी की गई हो तो भी बड़ा अच्छा प्रभाव छोड़ती है। अच्छी नीयत से की गई प्रशंसा हमेशा सराहनीय होती है ।

2.    अच्छे श्रोता बनिए .......

दूसरों की बात ध्यान से सुनना बहुत बड़ा गुण है । धैर्य से बातें सुने, बीच में बात न काटें । इस गुण का विकास करके देखें, हर व्यक्ति आपकी दोस्ती के लिए हाथ बढ़ाता नजर आयेगा।

3.    चीखना – चिल्लाना उचित नहीं.........

सहयोगियों पर न चीखें, न चिल्लाएँ । चाहे विद्यार्थी हो या कामकाजी, ऐसा बिलकुल न करें । इसका प्रभाव बुरा ही पड़ता है।

4.    बोलचाल में शालीनता जरूरी............

अधीनस्थ या मातहतों से बहुत मीठा बोलें । चूँकि आप बॉस” है और मातहतों को डाट फटकार सकते हैं, इस भावना से ऐसा न करें। इससे लोग सम्मान की जगह आप पर कड़ी निगाह रखेंगे और मौका पड़ते ही आपका बुरा कर डालने में न हिचकेंगे। लोगों से मीठा बोलकर मीठे व्यवहार को पाने का अनुभव लें । मुंह चिढ़ाकर रहने से तनाव बढ़ेगा।

5.    बदले की भावना न रखें...........    

जी हा , कोई बात बुरी लगे तो बहुत देर उसे याद न रखें। भूल जाएं । ऐसी गांठ मन पर बड़ा बोझ डालती है। शत्रुता, मनमुटाव या बदले की भावना पर सर खपाना, ऊर्जा की बर्बादी है। जरा सोचिए, आप तो भीतर ही भीतर उबल रहे हैं और आपका टार्गेट मजे से नैनीताल घूम रहा है या मोबाइल पर कोई फिल्म देख रहा है।

6.    शेख़ी बखारना ठीक नहीं............

जब आप हाँकते है यानी शेख़ी बखारते है तो सच मानिये लोग आपसे प्रभावित नहीं होते, लेकिन समझ जाते है कि आप भीतर से कितने कमजोर और असुरक्षित है। बेहतर यही होगा कि जब भी आप अपने आपको दूर की हांकते पकड़ लें तो वहीं रूक जाये ।

7.    सामने वाले को हौसला बढ़ायेँ...........

व्यंग्य करने की बजाय शब्दों से दूसरे व्यक्ति को सहारा दें उसका हौसला बढ़ाएं। नमूने के कुछ वाक्य पेश है – “मुझे बहुत खुशी है कि आप पहले से स्वस्थ नजर आ रहे हैं।” “वाह ! सिगरेट छोड़ दी। बहुत बढ़िया काम किया।” अरे आज तो आप ने कमाल कर दिया । सुबह – सुबह ही तैयार हो गये !” इत्यादि ।

8.    प्रशंसा दिल खोलकर करें..........    

जब किसी में कोई अच्छी बात देखें तो उस पर अच्छे उद्गार अवश्य प्रकट करें, यानि तारीफ करें। आपकी की प्रशंसा से किसी मुरझाये का डील खिल भी सकता है। कोई – कोई कोम्प्लीमेंट तो वर्षों याद रखे जाते है ।

9.    सभी के सामने दुखड़ा न रोंये........

पूरी बातचीत के दौरान एक भी शिकायत न करें, न किसी अभाव का रोना रोएं । सच मानिये इस प्रकार की बातचीत लोगों को बड़ी सहज और सुखद लगेगी। वह कहावत तो सुनी है न । हंसने वालों का सब साथ देते हैं लेकिन रोने वाला अकेला ही रोता है ।

10.   खुद को बेहतर साबित न करे..........

अपने को सर्वोतम न मशहूर करें। ऐसा दंभ लोगों को आपसे दूर रखेगा। लोग आपसे घबराएँगे और आप के दोस्त न बन सकेंगे ।

11.   दु:ख को टालना ही भला ............

दु:ख को हंस कर टालिये । दु:ख के समय भी हल्के मन से बातचीत करने वाले की लोग बहुत इज्जत करते हैं । ऐसा व्यक्ति बड़ा खुशदिल या ज़िंदादिल कहलाता है।

12॰   जीयें और जीने दें..............

दूसरों के हीरों का तिरस्कार न करें । छोटी सी बात है की यदि आप अमिताभ के फैन हैं तो आपकों कोई हक नहीं कि आप शाहरूख के फैन के सामने उसके हीरों का तिरस्कार करें। जीयें और जीने दें इस फार्मूले को अपनाने वाले बड़े लोकप्रिय होते है।

13.   सभी के लिए मददगार साबित हो.........     

रूठों को मनाइये और ढेरों ऐसे ही काम कीजिये। सच्ची मदद पाने वाला आपका गुण गायेगा और कभी न कभी आपके काम भी आयेगा।

14.   सभी से उन्मुक्त रूप से मिलिए.........

दोस्ती करनी हो या लोकप्रिय बनना हो तो थोड़ा खुलना तो पड़ेगा ही। चुप्पी साधे रहने वाले व्यक्ति से कौन अपने दिल का हाल कहेगा और उससे घुलेगा – मिलेगा ?

15.   क्षमा याचना को तत्पर रहिए ...........

मौका पड़ने पर मुझे क्षमा करें कहने में न हिचकिचाएँ । क्षमा याचना दिल को जीतने वाला एक बेहद असरदार गुण है।

16.   बेईमान न बनिए ...........

कुछ लोग किसी समूह  में अजीबोगरीब सवाल करके अपनी विद्वता की धाक तो बिठा लेते हैं लेकिन जब कोई व्यक्ति उसका उत्तर देने का प्रयत्न करता है तो उसे बोरिंग समझकर वहाँ से रफूचक्कर हो लेते हैं। अक्सर लोग सवाल पूछते हैं, लेकिन जब कोई शिक्षाविद जवाब देना प्रारम्भ करता है तो जमुहाई लेकर वहाँ से हट लेते हैं। ऐसा कदापि न करें ।

17.   स्पष्टवादी बनिए.........

मन का मैल धो डालिए । कोई मनमुटाव होने पर आमतौर पर लोग उसके गुबार या जहर को मन में पाले वर्षों बैठे रहते है। पीठ पीछे ऐसे लोगों को घुन्ना कहा जाता है। आप यह न करें । विवाद या झगड़ा होने पर साफ-साफ उस पर बातचीत करें और हल खोजें । आपकी यह स्पष्टवादिता लोगों को बड़ी पसंद आएगी ।

18.   व्यावहारिक बनिए........

जो व्यक्ति आपके सामने मान लें कि वह कमजोर है, अव्यावहारिक है या किसी काम में उसने मूर्खता दिखाई है तो ईश्वर के लिए आप भी उसे कमजोर, अव्यावाहरिक या मूर्ख न पुकारें। अपने आप ऐसे विशेषण लगाना और बात है। लेकिन किसी के द्वारा इस तरह की बात सुनना बहुत अपमानजनक लगता है। ऐसे समय उसे आपकी मीठी संवेदना की आवश्यकता है, न कि इतने कठोर शब्दों की। वह चाहे जो कहें , आपको इसे नहीं दोहराना चाहिए।

19.   प्रसन्न मन से उधार दें..........

दोस्ती में उधार भी चलता है चाहे वह एक कटोरी शक्कर हो या दस से लेकर सौ रूपये । उधार की एक सीमा मन – ही- मन बांध लें और उसके भीतर मन से उधार दें । यह नहीं कि दावा करें जान छिड़कने का और जहां दोस्त ने पाँच रूपये मांगे कि भौह पर बाल डाल लिये ।

20.   सभी के सुख दु:ख में शामिल हों ..........

लोग जो मांगे वह दे। यही अंतिम बिन्दु इस पूरी बातचीत का केंद्र बिदु है। लोग चाहते हैं सहानुभूति और संवेदना और यही उन्हें दे। उनकी जगह अपने को रखकर देखने की आदत डालें, उनके सुख - दुख को शेयर करें और आप स्वयम पाएंगे कि आपके चाहने वालों का एक हुजूम हमेशा आपके साथ है ।

tips to be popular
tips to be popular
By:- Madan Jeet Kumar 

7 comments: