mr discount code mr kortings code Motivational World

Sunday, April 21, 2019

How to success in life



सफलता

How-to-success-in-life
How-to-success-in-life

 सफलता छोटा सा यह सब समेटे हैं अपने में बड़ी-बड़ी उमंगे,  ढेर सारी प्रतिष्ठा और दुनिया भर की खुशी। ऐसा कौन व्यक्ति है जिसे यह  शब्द ना लुभाता हो ? हर व्यक्ति सफलता का दीवाना हैं ।  सफलता एक  विशिष्ट घटना है,  हम सभी चाहते हैं कि यह घटना हमारे जीवन में बार-बार घटित हो।  सफल व्यक्ति  उगते सूरज की भाँति होता है, जिसे चहूँओर ओर से लोग  नमस्कार करते हैंहर व्यक्ति के सफलता के अपने मानदंड होते हैं जो उम्र के साथ बदलते रहते हैं।  कक्षा में प्रथम आना या प्रतियोगी परीक्षा में उत्तीर्ण होना एक विद्यार्थी की सफलता हैमैच जीत जाना खिलाड़ी की सफलता है,  एक अच्छा सा कैरियर पा जाना एक युवा की सफलता है तो व्यवसाय में उत्तरोत्तर तरक्की करते जाना एक उद्यमी की सफलता है, और भी बहुत से उदाहरण है सफलता के।  हम कह सकते हैं कि अंततः अपने लक्ष्यों को पा जाना सफलता है। हम सब  ही अपने-अपने क्षेत्र में सफल होना चाहते हैं और अपने-अपने स्तर पर  प्रयत्न भी करते हैं। इसके बावजूद  हममें से कुछ लोग अपने जीवन में सुनहरी मंजिलें और महान ऊंचाइयां प्राप्त करते हैं  तो कुछ लोग वहीं के वहीं रह जाते  है।   सफलता प्राप्त करना वास्तव में  कोई जटिल कार्य  नहीं है,  महत्वपूर्ण है उन तत्वों को जाननाजो किसी व्यक्ति को सफल बनाते हैं।  हमने अपने इस लेखनी में आप की सफलता के लिए महत्वपूर्ण कुछ तत्वों को बताना चाहूंगा।




Success is small, it has a lot of greatness, a lot of prestige and happiness around the world. Who is such a person who does not tempt this word? Everyone is crazy about success. Success is a unique phenomenon, we all want that this event occur frequently in our lives. The successful person is like the rising sun, which people greet on behalf of the moon. The success of every person has its own benchmarks which change with age. The first to come to class or to pass the competitive exam is the success of a student, the success of the player is to win the match, to achieve a good career, the success of a young person, then progressing in business is the success of an entrepreneur, and also Many examples are of success. We can say that finally achieving your goals is a success. We all want to succeed in our field and also try our own level. Despite this, some of us get golden storages and great heights in our lives, so some people stay there right there. Getting success is not really a complex task, it is important to know the elements that make a person successful. We would like to tell some of the important elements for your success in this article.


How-to-success-in-life
How-to-success-in-life

सर्वप्रथम सीढ़ियाँ बनाएँ :-   सफलता किसी दुर्ग के शिखर की भाँति है और आत्मविश्वास, दृढ़ संकल्प, आशावादी एवं सकारात्मक दृष्टिकोण, रचनात्मक सोच, लगन तथा कार्यों के प्रति निष्ठा एवं समर्पण इस शिखर तक सीढ़ियों की तरह। सबसे महत्वपूर्ण है आत्मविश्वास, क्योंकि आदमी की सच्ची हर केवल तब होती है जब वह स्वयं का विश्वास खो बैठता हैं। अत: सर्वप्रथम अपने व्यक्तित्व में इन विशिष्ठाताओं का समावेश करें, आप स्वयं को सफलता के नजदीक पाएंगे।

First make the stairs: - Success is like the peak of a fort, and self-confidence, determination, optimism and positive attitude, creative thinking, passion and devotion to dedication and dedication to the summit is like the stairs. The most important is confidence, because the true nature of a man only happens when he loses the faith of himself. So, first of all, include these specialists in your personality, you will find yourself near success.

कुशल रणनीति बनाइए :-   पहले अपने लक्ष्य का निर्धारण कीजिए, बाद में मार्ग का। आपको यह बात पता होनी चाहिए की आपको जाना कहाँ हैं। कार्यो के लिए एक निश्चित प्रक्रिया रचें। निर्णय लेने और योजना बनाने में अनावश्यक जल्दबाज़ी मत कीजिए। आखिर जो निर्णय आप ज़िंदगी में एक ही बार ले सकते हैं उस पर आपको बखूबी गौर करना ही चाहिए। परंतु केवल योजना बनाते ही मत रह जाइए, अपने कार्यो में समय का ठीक-ठीक नियोंजन करें और इस बात को हमेशा ध्यान रखें कि आगे आपको करना क्या हैं? अर्थात आपका अगला कदम क्या होगा?


Build efficient strategies: - Determine your goal first, later on route. You should know about where you are going. Create a specific procedure for the tasks. Do not need to hurry to make decisions and plan. After all, you must carefully consider the decision that you can take once in your life. But do not stay away from planning only, make proper time for your work, and always keep in mind that what you have to do next? What is your next step?

How-to-success-in-life
How-to-success-in-life


अवसर को पहचानना सीखिए :-    सफलता का खास रहस्य है अवसर को न चूकना। अवसर की आहाट को पहचानिए और सदैव अपने इंद्रियों को सक्रिय रखिए क्योंकि कभी-कभी अवसर ठीक आपकी नाक के नीचे भी हो सकता है, मात्र आपकी नजर पड़ने की प्रतीक्षा में। अवसर और प्रलोभन में भेद करना भी सीखिए, क्योंकि प्रलोभन सुगम दीखाई पड़ने वाली उन राहों की भाँति है जो आपकों उस जगह ले जाती है जहाँ आप जा ही नहीं रहे होते।

Learn to recognize opportunities: - The special secret of success is not to miss the opportunity. Identify the Aahat of opportunity and always keep your senses active as sometimes the opportunity can also be right under your nose, only waiting for your eyes to see. Learn also to distinguish between opportunity and temptation, because temptation is like the smoother paths that take you to the place where you are not going.

शीघ्र निर्णय लेने की क्षमता विकसित करें :-           निर्णय लेने से अधिक महत्वपूर्ण है, उसे लेने का क्षण, क्योंकि कभी-कभी अवसर आपकी प्रतीक्षा नहीं करता और तब जरूरत होती है शीघ्र निर्णय लेने की। करें या ना करें “ऐसे करें या वैसे करें”, “ये करें या वो करें” जैसे दूंद्वात्मक विचारों को हृदय में जड़े ना जमने दें। ऐसी स्थिति में अपने अनुभवों, अंत:प्रेरणा पर भरोसा करें और अपने मन की सुनें, औरों की दलीलों के फेर में न पड़े।

How-to-success-in-life
How-to-success-in-life



Develop the ability to make quick decisions: - More important than making decisions, the moment of taking it, because sometimes the opportunity does not wait for you and then it is necessary to make quick decisions. Do not let the doctrinal thoughts such as "do or do it," "do it or do it," and do not let the thoughts of the heart grow in the heart. In such a situation, rely on your experiences, intuition, and listen to your mind, do not fall in love with others.

जोखिम उठाने की क्षमता विकसित कीजिए :-     सर्वेक्षणों से पता चला है कि अधिकांश सफल व्यक्ति जोखिम उठाने में निपुण होते हैं। कभी-कभी जोखिम ना लेना, जोखिम लेने से भी अधिक खतरनाक होते हैं। यदि आप हिचकिचाते हैं तो समझ लीजिए आप आखिरी स्थान पर हैं। मैं सफल ही होऊँगा, इस सकारात्मक सोच के साथ नपे-तुले जोखिम लें। यह हाथ पर हाथ धरे बैठे रहने से तो बेहतर ही है।


Develop the ability to take risks: - Surveys have shown that most successful individuals are skilled in taking risks. Sometimes risks are more dangerous than taking risks. If you are hesitant, then understand that you are in the last place. I will be successful, take risks with this positive thinking. It is better if you are sitting on your hands.


How-to-success-in-life
How-to-success-in-life

व्यवहार कुशलता, वाकचातुर्य एवं विश्वसनीयता कायम करें:-     ये तीन तत्व जीवन में विकास के लिए आगे बढ़ने के लिए आवश्यक अंग है। व्यवहार कुशलता हर चीज की कीमत कई गुना बढ़ा देने की क्षमता रखती है। अपने व्यवहार एवं वाणी को मृदुता, सहृदयता एवं शिष्टता की गंध महकाएँ एवं अपने संपर्क में आने वाले व्यक्तियों पर अपना विश्वास कायम करें। वाकचातुर्य वह है जो आपके काम बना दें अत: वहीं कहना सीखिए जो लोग सुनना पसंद करते हैं। “धन्यवाद”, “कृपया” आदि शब्दों का प्रयोग अधिक से अधिक करें। याद रखिए दूसरों के सहयोग एवं अच्छे कार्यो के लिए श्रेय देना आपके लिए श्रेयकर है।



Establish a sense of behavior, conviction and reliability: - These three elements are the necessary organ to move forward for development in life. Behavioral efficiency holds the potential to increase the price of everything. Make your behavior and speech the smell of softness, sympathy and dignity, and establish your faith in those who come into contact with you. The tone is what makes your work, so learn to say the same people who like to listen. Use the words "thank you", "please" more and more. Remember to give credit for others' cooperation and good work is creditworthy for you.

सीखना सीखिए :-    बुद्धिमान लोग अपने अनुभवों से सीखते हैं और अधिक बुद्धिमान दूसरों के अबुभावों से भी। किसी चतुर सुजान ने कहा है कि जो सीखना जानते है वो बहुत कुछ जानते हैं। अत: अपनी सफलता के लिए प्रकृति से या अपने से बुद्धिमान, अनुभवी बड़े या छोटे व्यक्ति से भी सीखने या सलाह लेने में कभी न झिझकें। कभी मत भूलिए कि छोटी-छोटी बातें सीखना भी आपकी सफलता की राह में मील का पत्थर साबित हो सकता है, अत: सीखने का कोई भी अवसर हाथ से न जाने दें।

Learn to learn: - 'Intelligent people learn from their experiences and with the intentions of more intelligent others.' Some smart person has said that those who know how to learn know a lot. Therefore, never hesitate to learn or consult with your intellectual, experienced, large or small person by nature or yourself. Never forget that learning small things can prove to be milestones in your path of success, so do not let any opportunity to learn.

How-to-success-in-life
How-to-success-in-life

            इनके साथ ही इस दिमागी खेल में विजय के लिए जरूरी है कठोर परिश्रम और आगे बढ़ने की ललक। यह अकाट्य सत्य है कि जो सफल होते हैं वे परिश्रमी भी होते है और अपने साधन स्वयं विकसित करने में निपुण भी। सच मानिए सफलता कोई आश्चर्य नहीं है, जरूरत है तो सिर्फ सही समझबूझ और समर्पण की। यदि आप भी सफल होना चाहते है तो आज ही से, बल्कि अभी से अपने कार्यो को निष्ठापूर्वक सम्पन्न करने की दिशा में अग्रसर हो जाइए।
Along with these, it is necessary for victory in this mind game. Hard work and glee to move forward. It is an irrefutable truth that those who are successful are also hardworking and are skilled in developing their own means. True, success is not a surprise, if needed, only right understanding and dedication. If you want to be successful too, then move forward towards fulfilling your work from today, but from now on.

यदि आपको मेरा यह सफलता” पर Motivational Article पसंद आया हो या अच्छा लगा हो तो इसे जरूर Like और Share करे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस Article को पढ़के जीवन में सफल होने का गुण सीख सके। साथ ही आप Comment Box में Comment जरूर करे और अपनी राय दें ताकि मैं इसे अपने अगले Article में लागू कर सकु और ई-मेल Subscription को भी Activate करे ताकि मेरा Article आप तक पहुँच सके।
How-to-success-in-life
How-to-success-in-life

If you have liked or liked the motivational article on this "success", then definitely like it and share it so that more and more people can learn the quality of success in life by reading this article. Also, you must comment in the Comment Box and give your opinion so that I can apply it in my next article and activate E-mail subscription so that my article can reach you.

 इन्हें भी पढ़े :-
14. पढ़ने का तरीका भी है महत्वपूर्ण


Sunday, April 14, 2019

The way of reading is also important

Motivational
नमस्कार दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं मैं अपने ब्लॉग पर पिछले कुछ दिनों से सफलता से संबंधित मोटिवेशनल आर्टिकल लिखते आ रहा हूं , जिसे आप सभी ने सराहा भी है । आज मैं आप लोगों के सामने एक नए विषय पर आर्टिकल लिख रहा हूं. आज मैं आपलोगों के लिए पढ़ने के तरीका से संबन्धित article लिख रहा हूँ जिसे पढ़कर आप जरूर लाभान्वित होंगे। अगर आपको मेरा Article पसंद आए तो इसे जरूर अपने दोस्तों, रिस्तेदारों को Share कीजिएगा ताकि वो भी पढ़कर इसका लाभ उठा सके । 

पढ़ने का तरीका भी है महत्वपूर्ण



चाहे युवा किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे  हो या फिर स्कूल, कॉलेज की परीक्षाओं में अच्छे अंक लाने के प्रयास में हो, वे  सब खूब पढ़ते हैं।  लेकिन कई बार खूब पढ़ने पर भी उन्हें मनोवांछित  सफलता प्राप्त नहीं होती।  अधिकांश का कहना होता है कि इतना पढ़ने पर भी कुछ नहीं हुआ।  इससे तो अच्छा है कि पढ़ना ही छोड़ दिया जाए।  लेकिन ऐसा कहने वालों को अपने अध्ययन शैली पर ध्यान देना चाहिए।  सिर्फ पढ़ना और पढ़ने में वक्त गुजारना ही पर्याप्त नहीं है।  पढ़ने का तरीका  और शैली भी महत्वपूर्ण है।  अगर आप मन से पढ़ाई नहीं कर रहे हैं या  आप के लिए पढ़ाई मजबूरी है तो आप इससे कुछ भी ग्रहण नहीं कर पाएंगे।


दरअसल देखा जाए तो हमारी दिनचर्या,  हमारे जीवन शैली में कई रूपों से जुड़ा हुआ है।  स्कूल,  कॉलेज की पढ़ाई के साथ ही साथ घर पर भी की गई पढ़ाई जीवन हमारी सफलता का सोपान बनती है।

अध्ययन की भूमिका को कैरियर निर्माण और व्यक्तित्व विकास में किसी भी तरह से नकारा नहीं जा सकता।   यदि आप जीवन में प्रगति करना चाहते हैं।  ज्ञान के क्षेत्र में कुछ करना चाहते हैं तो आपको अन्य प्रयासों के साथ ही साथ अपने अध्ययन शैली को भी कारगर बनाना पड़ेगा।

अक्सर आपको अध्ययन  संबंधित  आदतों के बारे में   सुधार की सलाह आप  के माता - पिता,  शिक्षकों से मिलती रहती ही होगी। वैसे आजकल पत्र-पत्रिकाओं में भी इस तरह के सलाह पढ़ने को मिल जाती है।  लेकिन पढ़ाई के बोझ  और भय से विद्यार्थियों को दी गई सलाह  कारगर नहीं लगती जिससे वे  लिक  से हटकर नहीं सोच पाते।
The way of reading is also important
The way of reading is also important

अध्ययन शैली  कारगर  बनाना थोड़ा मुश्किल जरूर है  पर असंभव नहीं।  इसमें कुशलताओं  का बारीकी से विश्लेषण करना पड़ता है। शुरुआत अध्ययन के प्रति लगन से की जा सकती है।  इसके लिए आपको खुद को अनुशासित करना होगा।  और ऐसे लालच,  जिनकी वजह से ध्यान बंटता हो,  प्रभावित होने से बचना होगा।  पढ़ाई के मामले में अनुशासन को अपनाकर विद्यार्थी  अध्यवसायी  होने के महत्व को समझेगा  और ठीक परीक्षा के समय  शॉर्टकट से अपना कोर्स पूरा करने की नौबत नहीं आएगी।  यह  तरीका शुरु में थोड़ा सा कष्ट दायक हो सकता है,  लेकिन आगे चक्र इसके लाभ है। इस तरह की अध्ययन शैली से  निर्णय करने की क्षमता का विकास होता है क्योंकि विद्यार्थियों में  अपनी प्राथमिकताएं तय करने की समझ आती है और उनकी  विश्लेषणात्मक क्षमता प्रखर होती है।  सबसे महत्वपूर्ण  बात होती है कि वह समय का सदुपयोग करना सीख जाता है क्योंकि वह उपलब्ध समय को अध्ययन,  खेलकूद,   रूचियों  जैसे कार्यकलापों के बीच बांटकर संतुलित दिनचर्या  बनानी होती है।  यह सब  उसमें एक तरह का आत्मविश्वास पैदा करता है।


अध्ययन करना और अध्ययन की हुई बात का  मनन करना  दो अलग-अलग चीजें हैं।  यानि आपकी नजरें तो किताब पर है लेकिन दिमाग टीवी में आ रहे क्रिकेट मैच में चल रहा है कि अभी कितने रन हो गए होंगे या कितने विकेट उड़ गए होंगे।   तो इससे शायद ही कुछ ग्रहण कर पाएं।

 कुछ लोग अक्सर 1 पंक्ति या पैराग्राफ को बार बार पढ़ते हैं  यह  दुहराव  पंक्ति या पैराग्राफ में छिपे गहरे  अर्थ को समझने का  हो,  तब तो ठीक हैं लेकिन अगर पढ़ाई मन से नहीं की जा रही है  तो  5-6  घंटे की पढ़ाई  भी व्यर्थ है इसके बजाय मन लगाकर कि घर 1 घंटे की पढ़ाई ही काफी है।

अध्ययन शैली विकसित करते समय सिर्फ और सिर्फ अपने कैरियर पर नजर रखें।  हर जगह अलग अलग तरह की परीक्षाओं का आयोजन होता है  जो कई मायनों में स्कूल एवं कॉलेज की परीक्षाओं से अलग होती है और इसमें वे लोग ही ज्यादा सफल होते हैं जिनके अध्ययन में गहराई हो और जिनके निर्णय जल्दी होते हो और विश्लेषण करने जैसी क्षमताओं से युक्त  हो, रटने  वाले लोग यहां पिछड़ जाते हैं।


यहां भी  महत्वपूर्ण है कि क्या पढ़ा जा रहा है  जाहिर सी बात है कि अगर आपके पास सीमित समय है तो आप इसे गैरजरूरी विषयों के अध्ययन में नहीं गवां सकते।  अतः  उचित होगा कि आप अपने पाठ्यक्रम को बखूबी समझ ले  ताकि पाठ्यक्रम से बाहर के अध्यायों आपका समय नष्ट ना हो।

ऐसे समय में बाजारू उपन्यासों की बजाय  महापुरुषों की आत्मकथाएं  जीवनी,  आत्म विकास,  ज्ञान - विज्ञान से संबंधित पुस्तकों का अध्ययन विद्यार्थियों पर अच्छा प्रभाव डालता है।

आप इन्हे भी पढ़ें :- 

2. हम और हमारा परिवार

3. अपनी गलती सुधारें । 

4. परीक्षा देना भी एक कला है।

5. जब मन न हो काम करने का। 

6. जरूरी है सम्पूर्ण समर्पण

7. अभी नहीं तो कभी नहीं

8. मेरा संदेश

9. लोकप्रिए बनने के टिप्स

10. परीक्षा को सामान्य ढंग से लें। 

11. भीड़ से अलग बनें |

12. समय प्रबंधन का क, ख, ग

13. अति महत्वाकांक्षा है हानिकारक

The way of reading is also important


Whether they are preparing for a competitive exam or are in an effort to get good points in the school, college examinations, they all read it well. But even after reading a lot, they do not get the desired success. Most say that nothing has happened even after so much. It is better than to leave that reading. But those who say this should pay attention to their study style. It is not enough just to spend time reading and reading. The method of reading and style is also important. If you are not studying with your mind or you have a compulsion to study, then you will not be able to accept anything from it.

Actually, our routine is linked to many forms in our lifestyle. Along with school and college studies, studies done at home also make life a destination for our success.

The role of study can not be denied in any way in career building and personality development. If you want to progress in life. If you want to do something in the field of knowledge, then you will have to work with your other efforts as well as your study style.

Often you will continue to get advice about improvement of study related habits with your parents, teachers. Well, in today's papers and journals, such advice is read. But the advice given to the students by the burden and fear of studies does not seem effective, so they do not think it out of the lick.

Making the study style work is difficult but it is not impossible. It involves closely analyzing the skills. Started study can be done diligently. You have to discipline yourself for this. And such greed, which causes distraction, will have to be avoided. By adopting discipline in the case of studies, the student will understand the importance of being chivalrous and will not be able to complete his course with the shortcut during the examination. This method can be a bit painful in the beginning, but the further cycle has its advantages. This type of study style develops ability to make decisions because students understand their priorities and their analytical ability becomes intense. The most important thing is that he learns to utilize the time because he has to make available time by distributing between balanced activities such as study, sports, and interests. All this creates a kind of confidence in it.

There are two different things to study and meditate on the study. That is, your eyes are on the book, but the mind is in a cricket match coming to TV, how many runs it has been or how many wickets have flown. So you can hardly accept something from it.

Some people often read 1 row or paragraph repeatedly, to understand the deep meaning of this repetition line or paragraph, then it is fine, but if studies are not being done in the mind, then 5-6 hours of studies are also useless Instead of thinking that home 1 hour only is enough.

While developing the study style, just keep an eye on your career. Everywhere different types of examinations are organized which are different from the examinations of the school and college in many ways and those people are more successful in those whose studies are in depth and whose decisions are quick and with the capabilities of analyzing The people who are crying get lagged here.

It is also important that what is being taught is obviously that if you have limited time then you can not lose it in the study of non-essential subjects. It would therefore be appropriate, that you understand your curriculum so that the chapters outside the curriculum do not waste your time.

At such times, autobiographies of great men rather than barkhukan novels, studies of books related to biography, self-development, knowledge-science, have a good effect on students.